Advertisement:
जांजगीर-चांपा

पीएम आवास दिलाने के नाम पर अवैध वसूली,पैसे नहीं देने पर नाम काटने की देता था धमकी इस गांव के सरपंच पति ने की वसूली.. पढ़े पूरी खबर

 

 

 

 

 

 

जांजगीर चांपा जिले में इन दिनों पीएम आवास में नाम दर्ज कराने और पीएम आवास का लाभ दिलाने पीएम आवास लिस्ट में नाम जुड़वाने और जल्द लाभ दिलाने के लिए ग्राम पंचायत चेऊडीह के सरपंच पति शंकर दास मानिकपुरी के द्वारा ग्रामीणों से और पीएम आवास के हितग्राहियों से पांच – पांच हजार रुपए लेने का मामला सामने आया है मामले का खुलासा तब हुआ जब पीएम आवास योजना का पैसा हितग्राहियों के खातों में डाला गया, जिन हितग्राहियों से सरपंच पति शंकर दास मानिकपुरी ने पांच पांच हजार रूपए लिए थे उनके खातों में जब आवास योजना का क़िस्त नही डाला गया,धीरे धीरे ये बात पुरे गांव में फैल गई,मामले की जानकारी ग्रामीणों से ली गई ग्रामीणों ने बताया कि ग्राम पंचायत चेऊडीह के सरपंच पति शंकर दास मानिकपुरी जोकि ग्राम पंचायत चेऊडीह के सरपंच मंजू मानिकपुरी का पति है और वह कहता है कि सरपंच हालांकि मेरी पत्नी है लेकिन पंचायत का सारा बागडोर मेरे हाथों में है और पंचायत को कैसा चलाना है मैं बताऊंगा और अपने हिसाब से चला लूंगा पीएम आवास में जिनको जिनको आवास की सुविधा चाहिए तो सभी को पांच पांच हजार रूपए देना होगा अगर कोई हितग्राही ऐसा नहीं करता है और 5000 देने से इनकार करता है तो पीएम आवास में उसका नाम लिस्ट से कटवा दूंगा या फिर उनको दिए जाने वाला राशि को लेट करवा दूंगा ग्राम पंचायत के कुछ हितग्राहियों ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए बताया है कि अपनी आर्थिक स्थिति खराब होने के बावजूद भी किसी प्रकार कहीं से ब्याज में पैसा इकट्ठा कर सरपंच पति शंकर दास मानिकपुरी को दीया जिसके बाद अभी तक उनके नाम से किसी भी प्रकार का पीएम आवास के लिए पैसा नहीं आया है इसके बारे में पूछने पर सरपंच पति के द्वारा गोलमोल जवाब दिया जाता है खबर प्रकाशन में आने के बाद शासन प्रशासन सरपंच पति और सरपंच के ऊपर किस प्रकार कार्रवाई करती है यह देखना लाजमी होगा आपको बता दें कि जनपद पंचायत पामगढ़ के अंतर्गत आने वाले ग्राम पंचायत चेऊडीह एक ऐसा पंचायत है जहां पर आए दिन इस प्रकार की घटना सामने आ की जाती है इस पंचायत में अभी 5 साल पूरे भी नहीं हुए हैं और ग्राम पंचायत का यह तीसरा सरपंच है।

Related Articles

Back to top button